Home Top Post BGMI Gamers ध्यान दें, ये गलती कर दी तो फ़ोन पर लगेगा...

BGMI Gamers ध्यान दें, ये गलती कर दी तो फ़ोन पर लगेगा परमानेंट बैन

अगर किसी मोबाइल डिवाइस में इनवेलिड प्रोग्राम का पता चलता है तो उस डिवाइस को बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया (BGMI) का इस्तेमाल करने से बैन कर दिया जाएगा।

review mobile point let you know BGMI (battleground mobile india) news

BGMI Game हाईलाइट

  • क्राफ्टन ने डिवाइसेज पर बैन लगाने की पॉलिसी के बारे में बताया है।
  • यह पॉलिसी आज से और अभी से लागू होने जा रही है।
  • क्राफ्टन का नया सिक्योरिटी लॉजीक धोखा देने वाले डिवाइसेज को पकड़ेगा।

इंडिया मोबाइल गेम

याद करने के लिए pubg मोबाइल को पिछले साल भारत में बैन कर दिया गया था और बाद में भारत में बैटलग्राउंड मोबाइल इंडिया या BMGI के रूप में फिर से लांच किया गया था जिसमें गेम एलिमेंट्स में कुछ मामूली बदलाव किए गए थे। यह Battleground mobile India playstore पर बहुत आसानी से मिल जाता है।

बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया ऑनलाइन

बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया गेम खेलने वाले ऐसे लाखों लोग हैं जो गेम खेलते वक्त चीटिंग करते रहते हैं। गेम के publisher क्राफ्टन इन धोखे बाजो पर एक्शन लेती रहती है। कंपनी अब और भी सख्त कदम उठाने जा रही है। क्राफ्टन के हिसाब से वह उन डिवाइसेज को ही बैन कर देगी जो खिलाड़ी BGMI खेलते समय चीटिंग करते हैं। यह पॉलिसी अभी से लागू होने जा रही है।

क्राफ्टन उन सभी डिवाइसेज पर बैन लगाएगी जिनमें खिलाड़ियों को चीटिंग में हेल्प करने वाले सॉफ्टवेयर आ रहे हैं। बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया और pubg न्यू स्टेट।

Pubg जैसे पॉपुलर गेम्स में चीटिंग से दूसरे खिलाड़ी के एक्सपीरियंस पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है और खास बात यह है कि डिवाइस पर लगने वाला बैन टेंपरेरी नहीं बल्कि परमानेंट होगा। पुरानी पॉलिसी में सिर्फ अकाउंट पर बैन लगाया जाता था लेकिन इस बार पॉलिसी में बदलाव यह दिखाता है कि गेम में चीटिंग करने वालों पर किस तरह एक्शन लिया जा रहा है।

गुरुवार को गेम की वेबसाइट पर क्राफ्टन के द्वारा एक पोस्ट शेयर किया गया था जिसमें डिवाइसेज पर बैन लगाने की पॉलिसी के बारे में बताया था। क्राफ्टन ने बताया था है अगर किसी मोबाइल डिवाइस में इनवेलिड प्रोग्राम्स के बारे में जानकारी मिलती है तो उस डिवाइस को भी BGMI का इस्तेमाल करने से परमानेंट बैन कर दिया जाएगा।

इसका सीधा मतलब यह है कि अगर आप BGMI खेलते वक्त चीटिंग कर रहे हैं और क्राफ्टन का नया सिक्योरिटी लॉजीक इसका पता लगा ले रहा है तो आपकी डिवाइस बैन होना कंफर्म है। इसके बाद आप कभी भी उस डिवाइस पर चाह कर भी BGMI गेम को नहीं खेल पाएंगे। अब तक यह गेम सिर्फ खिलाड़ियों के अकाउंट पर ही बैन लगाता था।

कार्यवाही उन खिलाड़ियों पर की जाती है जो गेम का अनऑफिशियल और मोडिफाइड वर्जन इस्तेमाल करते हैं या गेम में चीटिंग के लिए इनवेलिड प्रोग्राम का इस्तेमाल करते हैं। इसमें क्राफ्टन लगातार अपने यूजर्स के अकाउंट पर निगरानी रखता है और कार्रवाई कर रहा है जो गेम में चीटिंग कर रहे हैं।

हाल ही में क्राफ्टन ने बताया था कि उसने 99,583 BGMI अकाउंट को 6 दिन के अंदर बैन कर दिया है। यह सभी अकाउंट गेम में चीटिंग कर रहे थे। अकाउंट पर बैन लगाना बहुत ही ज्यादा इफेक्टिव है लेकिन डिवाइस पर बैन लगाने के बाद धोखाधड़ी करने वाले खिलाड़ि दूसरा अकाउंट बनाकर भी गेम में एंटर नहीं कर सकते और ना ही उसे कभी खेल सकते हैं। इस तरह से वे डिवाइस पर गेम खेलने से पूरी तरीके से बैन हो जाते हैं।

डिवाइस पर बैन डिवाइस आईडी, आईपी ऐड्रेस के जरिए लगाया जाता है। क्राफटन के सोशल मीडिया चैनलों पर खिलाड़ियों की ओर से गेम में चीटिंग की शिकायतें मिल रही थी कंपनी का कहना है कि धोखाधड़ी को खत्म करने की दिशा में वह अपना काम आगे भी जारी रखेंगे। हाल में क्रॉफ्टन ने 142,000 से अधिक प्लेयर्स पर बैन लगाया था।

यह बैन 6 दिसंबर से 12 दिसंबर के बीच अकाउंट को लगाया था जो इनवेलिड प्रोग्राम्स का इस्तेमाल कर रहे थे उन्हें परमानेंट से बैन किया गया है तभी कंपनी ने कहा था कि खिलाड़ियों को बेहतर गेमिंग माहौल देने के लिए वह इस तरह के कदम उठाती रहेगी ताकि उनकी जो खिलाड़ी हैं उनका अनुभव अच्छा बना रहे।

Note – लेटेस्ट टेक न्यूज, टेक रिव्यू, डिस्काउंट गैजेट पर मिलने वाले डिस्काउंट, टेक टिप्स एंड ट्रिक को पाने के लिए Review Mobile Point से अपडेट रहें।

आपके काम की दूसरी जानकारी

जिओ रिचार्ज प्लान धमाका! ₹75 जियो रिचार्ज पर पाएं इतना सब कुछ

सबसे सस्ता Jio Recharge Plan पेश करता है 1 Rs. 30 दिन के लिए

तो इस दिन Super Gaming Squid Game से प्रेरित Silly Royal IRL इवेंट होगा



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here